जानिए कैसे इंडियास्टैक का निर्माण करने में नंदन नीलेकणी की मदद कर रहा है एक छोटे शहर का लड़का

जानिए कैसे इंडियास्टैक का निर्माण करने में नंदन नीलेकणी की मदद कर रहा है एक छोटे शहर का लड़का

Tuesday December 24, 2019,

11 min Read

इंजीनियरिंग की सबसे पुरानी परिभाषा में केवल ऐब्स्ट्रैक्ट पैटर्न से स्ट्रक्चर को बिल्ड करने और संक्ट्रक्ट करने के बारे में कहा गया, जिसे उस समय 'हाई-टेक माना जाता था। आज, जैसा कि टेक्नोलॉजी का उपयोग कमोडिटी के तौर पर किया जा रहा है, इसलिए फोकस अब डिजाइन और एस्थेटिक जैसे एलीमेंट्स पर है।


k

यही वो बात थी तो कुछ समय पहले गूगल इंडिया प्रोडक्ट्स के पूर्व कंट्री हेड और इंडियास्टैक के फेलो ललितेश कत्रगड्डा ने कुछ साल पहले सेतु (Setu) के कनफ्यूज्ड सह-संस्थापक और मुख्य प्रचारक निखिल कुमार को बताई थी। जिसे बाद में उन्होंने खुद पर लागू किया।


इससे उन्हें एक ऐसी प्रोडक्ट लाइन की कल्पना करने का मौका मिला, जो अंततः इंटरनेट पर भारत के संपर्क का तरीका ही बदल देगा। उन्होंने टेक्नोलॉजी में सह-निर्माण की शक्ति की खोज की, और जाना कि कैसे यह बड़े तकनीकी पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करती है।





सेतु निखिल और साहिल किनी के दिमाग की उपज है। ये दोनों एस्पाडा इन्वेस्टमेंट्स के पूर्व प्रधान निवेशक हैं। अब ये लोग एक कम लागत वाले एपीआई इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करते हैं ताकि व्यवसायों को वित्तीय उत्पादों के साथ कुछ ही दिनों में जीवित रहने में मदद मिल सके। इस सप्ताह के टेकी ट्यूज्डे कॉलम में, हम भारत के महत्वाकांक्षी डिजिटलीकरण प्रयासों के लिए विकासशील एपीआई पर काम करने के लिए एक छोटे शहर से युवा इंजीनियर निखिल की अब तक की जर्नी के बारे में जानेंगे।


स्टीरियोटाइप इंजीनियर नहीं

उनतीस वर्षीय निखिल का जन्म बेंगलुरु से 60 किलोमीटर दूर एक छोटे से शहर कोलार में हुआ था। वह एक मल्टी-जनरेशनल इंजीनियर फैमिली से आते हैं: उनके दादा, एक सिविल इंजीनियर, 60 के दशक में नर्मदा नदी घाटी परियोजना में एक प्रमुख आर्कीटेक्ट थे।


उनके एक चाचा ने कुद्रेमुख आयरन ओरे (Kudremukh Iron Ore) कंपनी का निर्माण किया, जबकि दूसरे चाचा मुंबई के पीडब्ल्यूडी में इंजीनियर हैं। उनके 13 चचेरे भाइयों में से ग्यारह इंजीनियर हैं। इसलिए यह आश्चर्य की बात नहीं थी जब निखिल अपने माता-पिता के बैंकर होने के बावजूद खुद उसी रास्ते पर चले गए।


वर्षों से, निखिल न केवल कोडिंग में अपनी विशेषज्ञता के लिए जाने जाते हैं, बल्कि समस्याओं को जब तक हल नहीं कर लेते हैं तब तक उनके सलूशन को ढूंढ़ने के लिए भी जाने जाते हैं। वह इसे "सृजन की कला" कहते हैं - समस्या को स्पष्ट रूप से परिभाषित करने के लिए पैटर्न खोजने की क्षमता और फिर इसके समाधान तक जाना। 


l

निखिल का कहना है कि वह एक डेवलपर की तुलना में टेक्नोलॉजी आर्कीटेक्ट ज्यादा हैं।


उन्होंने योरस्टोरी को बताया,

"जब आप एक कोडर होते हैं, तो आप सलूशन के एक छोटे से हिस्से के मालिक होते हैं। मैं समस्या का हल खोजते हुए खुद को अधिक एंजॉय करता हूं, और पूरी समस्या को खुद हल करता हूं। मैं कुछ कोड लिखने और एक छोटे से भाग को हल करने के मुकाबले पूरी समस्या को हल करना पसंद करता हूं।"


कोलार में शुरुआत के वर्षों के बाद, निखिल को आठवीं कक्षा के लिए मैसूर बोर्डिंग स्कूल में भेजा गया। उन्होंने कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के लिए एक क्लब शुरू किया और अपने साथियों के साथ कुछ फ्लैश गेम्स डेवलप किए।





उन्होंने एक मतदाता आवेदन प्रणाली भी बनाई ताकि पूरा विद्यालय डिजिटल रूप से मतदान कर सके। बाद में, उन्होंने बेंगलुरु में कक्षा XI और XII को पूरा करने के बाद, तुमकुर में विश्वेश्वरैया प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से संबद्ध सिद्धगंगा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में इलेक्ट्रॉनिक्स और इंस्ट्रूमेंटेशन इंजीनियरिंग को चुना।


निखिल याद करते हुए कहते हैं,

"इंजीनियरिंग कॉलेज में अपने दिनों को याद करूं तो मैंने बहुत एंजॉय किया। अकादमिक रूप से, मैं एक औसत छात्र था लेकिन मैंने रोबोटिक्स क्लब, फेस्ट और क्विज के लिए साइन अप किया। हालांकि, अच्छे प्लेसमेंट के लिए लक्ष्य हमेशा था। मैं स्पष्ट था कि मैं एक टर्मिनल पर बैठकर केवल कोड नहीं लिखना चाहता।"

ग्रेजुएशन के बाद उन्हें टैली सॉल्यूशंस प्लेमेंट मिला। 


k

निखिल, अपने परिवार के साथ

फाइनेंशियल सेक्टर के साथ मुलाकात

कई दौर के इंटरव्यू के बाद, निखिल ने ERP सॉफ्टवेयर कंपनी के CTO को बताया कि वह कुछ भी करना चाहता थे लेकिन सिर्फ कोड। कोडिंग में कुछ भी करने को तैयार थे। और इसी तरह एक बात ने दूसरे के लिए प्रेरित किया, और बाद में यह युवा ग्रेजुएट टैली में स्ट्रेटजिक अलायंस को मैनेज करने लगा। इसने प्रासंगिक उत्पादों पर काम करके ग्राहक संबंधों का निर्माण किया। निखिल का पहला सलूशन टैली के भीतर ग्राहकों के लिए एक ई-बैंकिंग प्रणाली का निर्माण करना था।


उसके बाद इंट्राप्रेन्योरियल अनुभव हुआ, जहां वे टैली के ग्राहकों और एयरटेल ब्रॉडबैंड के बीच की डोर को समझने में सक्षम रहे। डेस्कटॉप-लाइसेंस प्राप्त उत्पाद होने के बावजूद, अपने 10,000 से अधिक यूजर्स के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्शन प्रदान करने के साथ टैली एक SaaS प्रोडक्ट बन गया।


इस एक्पोजर के कारण निखिल ने और अधिक ऐसे प्रोडक्ट्स का निर्माण किया जो एंड-टू-एंड समस्या का समाधान कर सकें। जब उन्हें लगा कि उन्होंने वह सब सीख लिया है जो वह टैली में कर सकते हैं, तो निखिल ने अपने सीखने का विस्तार करने के लिए एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में जाने का मन बनाया। लेकिन गूगल और फेसबुक जैसी कंपनियों के उनके आवेदन अस्वीकार कर दिए।





वे कहते हैं,

"मैंने टैली में जो कुछ भी किया था, उसे देखते हुए मुझे लगता है कि मैं ओवर क्वालिफाइड था, लेकिन इन टेक दिग्गज कंपनियों के लिए मैं अंडर क्वालिफाइड था क्योंकि मेरे पास MBA नहीं था। मैंने 6 महीने के दौरान 60 से अधिक नौकरियों के लिए आवेदन किया लेकिन कहीं से भी कोई कॉल नहीं आई।"


अंत में उन्हें कैलिफोर्निया स्थित वित्तीय सॉफ्टवेयर कंपनी इंटुइट (Intuit) से ब्रेक मिला। फिर 2011 से 2014 तक टैली में तीन साल तक काम करने के बाद, निखिल बेंगलुरु में इंटुइट में शामिल हो गए और उन्हें कंपनी के एपीआई के लिए गो-टू-मार्केट स्ट्रेटजी बनाने का पहला अनुभव मिला। निखिल के लिए यह पूरी तरह से नया अनुभव था, क्योंकि उनके पास इंटुइट के भारतीय और वैश्विक ग्राहकों के लिए वैल्यू बनाने के तरीकों को रणनीतिक करने का अवसर था।


एपीआई इकॉनमी

डेवलपर की दुनिया, जो केवल बुनियादी ढांचे के आसपास घूमती थी, उसने 2014 के आसपास बदलाव देखना शुरू किया। जैसा कि स्टार्टअप की संख्या देश में बढ़ी, वैसे ही अधिक से अधिक तकनीकी कंपनियां एपीआई खोलने के लिए प्रतिबद्ध थीं। एंड्रॉइड ने इस दिशा का नेतृत्व किया।


निखिल कहते हैं,

"एंड्रॉइड ने वास्तव में दिखाया कि एक विश्व स्तरीय डेवलपर पारिस्थितिकी तंत्र को कैसा दिखना चाहिए। एपीआई के नेतृत्व वाले ज्यादातर व्यवसाय उस समय शुरू हो रहे थे और वे मिलकर एक तथाकथित एपीआई इकॉनमी बना रहे थे।"


ऐसे में निखिल भी काफी कुछ करना चाहते थे लेकिन वे इंटुइट में फंसे हुए थे। हालांकि निखिल ने वहीं रहते हुए लघु उद्योगों के लिए एक ग्राहक फीडबैक प्लेटफॉर्म वायस (Voyce) का निर्माण किया। 20 भुगतान करने वाले ग्राहकों और केवल 10 महीनों के रनटाइम के साथ, क्लाउड टेलीफोनी स्टार्टअप एक्सोटेल ने नवंबर 2015 में वायस को खरीद लिया।





उस समय निखिल ने सिंगापुर में एक्सोटेल को लॉन्च करने में मदद की और दक्षिण पूर्व एशिया बाजार में प्रवेश किया, जो अब स्टार्टअप के लिए सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक है।

क

निखिल के मनाली ट्रिप की फोटो

वेक-अप कॉल

इस मोड़ पर, निखिल असमंजस की स्थिति में थे। वह एपीआई की दुनिया में डूबे हुए थे, लेकिन उनकी कोई स्पष्ट दिशा नहीं थी।


वे कहते हैं,

"जीवन में कई बार ऐसा होगा जब कोई आपको वेक-अप कॉल देने के लिए आता है, और आपको अपने खोल से बाहर निकालता है। मेरे पास पॉसिस्ट के सह-संस्थापक आशीष तुलसियान ऐसा ही एक दोस्त था।"


आशीष ने निखिल को उसकी क्षमता को पहचानने में मदद की और उन्हें दिखाया कि वह जो कर रहा था उससे भी अधिक कर सकता है। उन्होंने बताया कि वॉयस के माध्यम से, वह केवल टैली और इंटुइट में स्केलेबल उत्पादों और बिजनेस मॉडल के आसपास होने के बावजूद पूरे स्पेक्ट्रम में एक छोटी सी ही समस्या को हल कर रहे थे।


एक साल तक एक्सोटेल में काम करने के बाद यह सुनिश्चित करते हुए कि अब उनके पास खर्च के लिए पैसे हो गए हैं तो निखिल और उनकी टीम ने वायस को बंद कर दिया और एक्सोटेल को छोड़ दिया।


भारत की डिजिटल स्टोरी पर काम करते हुए

यह वर्ष 2016 था। सरकार ने उस समय डिजिटल इंडिया को आगे बढ़ाना शुरू ही किया था, और iSPIRT फाउंडेशन जैसे थिंक-टैंक भारत को एक प्रोडक्ट नेशन बनाने के लिए आक्रामक रूप से पिच कर रहे थे। एक्सोटेल में रहते हुए, योरस्टोरी ने दिल्ली में एक स्टार्टअप इंडिया सम्मेलन में निखिल को आमंत्रित किया था, जहां उन्हें iSPIRT फाउंडेशन के शरद शर्मा से मिलने का मौका मिला।


बातचीत क्लाउड टेलीफोनी को लेकर हुई और निखिल ने संगठन के लिए स्वेच्छा से रुचि व्यक्त की। कुछ दिनों बाद, उन्हें GST नेटवर्क (GSTN) पर काम करने के लिए फाउंडेशन की ओर से एक आमंत्रण मिला, जिसके लिए वित्त मंत्रालय को कुछ मदद की आवश्यकता थी।


निखिल को जीएसटीएन के लिए एक डेवलपर इकोसिस्टम का निर्माण करना था, और इस प्रकार उन्होंने इंडियास्टैक में अपनी यात्रा शुरू की।


एक राष्ट्रीय स्तर पर एक डेवलपर नेटवर्क बनाने और भारत के लिए समाधान के बारे में सोच ने उन्हें बहुत उत्साहित किया।


क

स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी में निखिल

निखिल ने यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) हैकाथॉन का आयोजन करने के लिए और भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के साथ मिलकर काम किया ताकि एंड-यूजर एक्सपीरियंस की जाँच की जा सके और उसी के लिए समाधान तैयार किया जा सके।





जब 2016 में नोटबंदी (demonetisation) हुई तो निखिल उस समय जसपे (Juspay) के साथ काम कर रहे थे और BHIM का निर्माण कर रहे थे। यूपीआई के निर्माण में 2,000 से अधिक डेवलपर्स शामिल थे, निखिल के नेतृत्व में डेवलपर इकोसिस्टम ने Paytm, Freecharge, Razorpay, PhonePe और Google पे जैसे फिनटेक प्लेयर्स के साथ मिलकर काम किया।


निखिल ने कहा,

"यह स्पष्ट था कि यूपीआई बैंकों के लिए नहीं बनाया गया था, बल्कि पारिस्थितिकी तंत्र के विकास के लिए बनाया गया था।"


जल्द ही, उन्होंने इंडियास्टैक में कई अन्य डिजिटल पहलों के लिए प्रोडक्ट स्पेसिफिकेशन और रूल बुक लिखना शुरू कर दिया; इसके बाद रेलवे स्टेशनों, टिकट केंद्रों, पुरातत्व स्थलों और पर्यटन केंद्रों, एलपीजी और पेट्रोल स्टेशनों को डिजिटल रूप देना था।


फिलहाल, सेतु पर काम करने के अलावा, निखिल भारत के लिए एक सार्वजनिक वाईफाई प्रणाली बनाने की महत्वाकांक्षी परियोजना, वाईफाई एक्सेस नेटवर्क इंटरफेस (WANI) में भी योगदान दे रहे हैं। Google फाइबर और फेसबुक के सहयोग से पहले से ही कुछ प्रयोग चल रहे थे, जो परियोजना के लिए पायलट का प्रयास कर रहे हैं।


इस प्रक्रिया में, वह नंदन नीलेकणी से मिले और तब से उनकी मेंटरशिप में हैं। फिलहाल, निखिल भारत के लिए इनोवेशंस के इकोसिस्टम को सक्षम करने के लिए एक मिशन पर हैं, जिसमें आधार, eKYC, eSign, UPI और डिजिटल लॉकर जैसे IndiaStack API का उपयोग किया गया है।


निखिल कहते हैं,

"प्लेबुक बहुत सिंपल थी: आप सक्रिय डेवलपर पारिस्थितिक तंत्र के साथ कंपनियों के एक समूह का निर्माण करते हैं, मूल्यवान और उपयोगी एपीआई का निर्माण करते हैं, डेवलपर्स को आपके साथ काम करने का मौका मिलता है, और फिर इन समुदायों को ग्राहक सफलता तक पहुंचने के लिए प्रेरित करते हैं।"

नंदन नीलेकणि की सलाह

सेतु निर्माण के आइडिया को लेकर साहिल और निखिल के एक साथ मिल जाने के बाद, वे 'डेवलपर्स और वित्तीय संस्थानों के बीच सह-निर्माण' की अवधारणा को फिर से जोड़ने के लिए एक कदम आगे बढ़े।


क

नंदन नीलेकणि के साथ निखिल


टेडएक्स की बातचीत में, निखिल ने संक्षेप में कहा कि सभी कठिन समस्याओं को केवल एक व्यक्ति द्वारा हल नहीं किया जा सकता है, और यही यहीं पर सह-निर्माण महत्वपूर्ण हो जाता है। वह एक व्यवस्थित तरीके से बात करने और एक खेल का मैदान बनाने की बात करता है जहां नीति, मंच और एपीआई एक साथ आते हैं और प्रौद्योगिकी के साथ भारत की वास्तविक समस्याओं को हल करते हैं। 





जब साहिल और निखिल इस आइडिया के साथ नंदन के पास पहुँचे, तो उन्होंने सिफारिश की कि वे सेतु को एक ऐसा मंच न बनाएँ, जहाँ डेवलपर्स कुछ बनाते हैं और फिर अपनी अगली समस्या के लिए आगे बढ़ते हैं।


निखिल याद करते हैं,

''उन्होंने हमसे कहा, ''कुछ ऐसा बनाओ जो लंबे समय के लिए सेल्फ-सस्टेनबल हो, ताकि आपको वापस आने और निरंतरता की तलाश न करनी पड़े।''
क

साहिल किनि के साथ निखिल

दोनों पिछले डेढ़ साल से सेतु पर काम कर रहे हैं। निखिल अंत में परिवार और एक व्यक्ति की सफलता में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका के बारे में बताते हैं। उन्होंने अपनी माँ को कुछ महीने पहले कैंसर से खो दिया था, और वे कहते हैं कि उनमें अपनी सफलता और अपने जुनून के सभी गुण मां से हैं।


वे कहते हैं,

"उनके (मां) बिना ये कुछ भी संभल नहीं था।” 


(Edited By रविकांत पारीक )