[Techie Tuesday] मिलिए गूगल मैप मेकर बनाने वाले ललितेश कत्रगड्डा से, अब भारत की बिलियन आबादी के लिए कर रहे हैं टेक का निर्माण

24th Mar 2020
  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

ललितेश कत्रगड्डा, वह व्यक्ति हैं जिन्होंने भारत के लिए गूगल मैप का निर्माण किया था। उनका मानना है कि वह 'एक बार सफलता पाने वालों' में से एक हैं। गूगल के साथ अपनी 12 साल की लंबी यात्रा में, ललितेश उस कोर टीम का हिस्सा थे जिसने गूगल इंडिया का निर्माण किया था और गूगल मैप्स इंडिया और बाद में, गूगल मैप मेकर को बनाया था। गूगल मैप मेकर एक मैप एडिटिंग सर्विस है जो गूगल मैप को बेहतर बनाने का काम करती है।


k

ललितेश कत्रगड्डा



ललितेश कहते हैं,

''मैप मेकर एकमात्र ऐसा प्रोडक्ट है जिसे मैंने बड़े पैमाने पर बनाया है।"


ललितेश को दृढ़ विश्वास है कि टेक्नोलॉजी को हमेशा खरोंच से बनाया जाना चाहिए और उसे बड़े पैमाने पर प्रभाव पैदा करना चाहिए।


भले ही Google Map Maker ने उन्हें एक उल्लेखनीय तकनीक के रूप में बहुत-योग्य मान्यता दिलाई हो, लेकिन ललितेश ने अपने नाम के साथ अन्य उपलब्धियों को भी जोड़ा है। उनके पास स्पेस रोबोट बनाने को लेकर तकनीक है जो भारत के अगले अरबों के समाधान के लिए समुदायों को सशक्त बना सकती है।


वे हमेशा अपने टेक इनोवेशन्स में यह सुनिश्चित करते रहे हैं कि उनमें प्रभाव पैदा करने की क्षमता हो। वे कहते हैं,

“आप किसी तकनीक और ज्ञान की सुंदरता का केवल तभी अनुभव कर सकते हैं जब आप इसका उपयोग करते हैं और बिल्कुल जीरो से कुछ बनाते हैं। यदि आप बहुत से मौजूदा सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं और दूसरों ने जो बनाया है उसके शीर्ष पर निर्माण कर रहे हैं, तो आपको उस शक्ति और सुंदरता का अनुभव नहीं होगा। आप अपना दृष्टिकोण अपनाकर और एक वास्तविक चीज बनाकर प्रभाव पैदा कर सकते हैं।"


गूगल के सह-संस्थापकों लैरी पेज और सेर्गेई ब्रिन व गूगल इंडिया के निर्माण के लिए इसके सीईओ एरिक श्मिट के साथ काम करने के बाद, गूगल में उनका अंतिम प्रोजेक्ट एंड्रॉइड किटकैट को लेकर सुंदर पिचाई के साथ था। ये पहले ऑपरेटिंग सिस्टम में से एक था, जो भारत में कम-लागत वाले फोन में काम करता है।


उन्होंने इन्फोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलेकणी के साथ मिलकर इंडिया स्टैक और अवंती फाइनेंस का निर्माण किया। वर्तमान में, Indihood के सह-संस्थापक के रूप में, ललितेश और उनकी टीम लोगों को अधिक से अधिक और कुछ बड़ा बनाने के लिए सूचना संकलन करने में मदद करने के लिए तकनीक का निर्माण कर रही है।





वे कोलैबोरेटिव मैप्स बनाने पर केंद्रित हैं, और कहते हैं कि उनकी बड़ी दृष्टि एक ऐसी दुनिया बनाने की है जहां औसत भारतीय इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं और अपनी सबसे बुनियादी समस्याओं का समाधान पा सकते हैं।


आज YourStory आपको एक छोटे से शहर के इस लड़के की यात्रा के बारे में बता रहा है जिसने तकनीक की दुनिया में एक बड़ा नाम बनाया, और अब भारत के अगले अरबों के लिए हल करने के लिए तकनीक का निर्माण कर रहा है।


क


एक ऐवरेज स्टूडेंट

आंध्र प्रदेश के तनुकु में एक मध्यम-वर्गीय तेलुगु परिवार में जन्मे ललितेश अपने शुरुआती दिनों में एक 'औसत छात्र' थे, लेकिन इसी दौरान उनका टेक्नोलॉजी के प्रति काफी रुझान था। आठ साल की उम्र में ही वे साइंस और तकनीक की ओर आकर्षित थे, और मुंबई (तब के बॉम्बे) में एक प्रतिष्ठित स्ट्रैंड बुकस्टोर में अपनी फेवरेट किताबें पढ़ने के लिए अपने पिता के साथ लगातार जाते थे।


ललितेश याद करते हैं,

"बचपन से ही, मैं ऐसा कुछ भी नहीं करता था, जो समझ में न आए या रोमांचक न हो। इसलिए, मेरे सीखने का तरीका उससे बिल्कुल अलग था जो सिखाया जाा था और यही कारण था कि मैं स्कूल में खराब प्रदर्शन करता था।"


हालांकि इसने ललितेश को आगे बढ़ने से नहीं रोका, और जिन्हें कभी मैथ पसंद तक नहीं था उन्होंने भारत के लिए गूगल मैप मेकर और गूगल मैप बनाने के लिए बाद में बहुत सारे मैथ का उपयोग करके तकनीकी को अगले मुकाम पर लेकर गए।


कहते हैं कि आईआईटी बॉम्बे से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले इस टेकी ने आईआईटी में अपनी गर्मी की छुट्टी के दौरान हिमालय की ट्रेक पर सीखे गए जीवन के अपने डर को दूर करने के लिए अपनी इच्छाशक्ति का काफी श्रेय दिया। वे कहते हैं,

“कुछ पहाड़ियाँ बेहद खतरनाक और सीधी चढ़ाई वाली थीं.. अगर आपने फिसले तो समझो आपका काम तमाम.. , इसलिए आपके पास शारीरिक और मानसिक रूप से मौजूद रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। उपस्थित होने से मुझे अपने डर पर काबू पाने में मदद मिली और विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए मेरा जुनून पर मैं डट गया।"
क

ललितेश और उनके दोस्त हिमालय ट्रेक पर। यह फोटो वैष्णोदेवी मंदिर के लिए दौड़ के बाद की है।


सबसे अच्छे से सीखना

वापस आने के बाद, उन्होंने एयरोस्पेस विभाग में कंप्यूटर लैब का पूरा उपयोग किया और इस तरह अपनी कोडिंग यात्रा शुरू की। वे कहते हैं,

“मुझे वीडी फाटक द्वारा कंप्यूटर साइंस कोर्स के लिए एक परिचयात्मक सिखाया जाने का सौभाग्य मिला। वे एक नई लैंग्वेज को इन्वेंट करते थे और हमें उस लैंग्वेज में एक प्रोग्राम राइट करने के लिए कहते थे। मैं यह जानकर हैरान था कि मशीनें क्या कर सकती हैं।"


इंजीनियरिंग के अपने चौथे वर्ष के दौरान, उनके लिए एक नया क्षेत्र उभरा - रोबोटिक्स। कार्नेगी मेलन उस समय इकलौती युनिवर्सिटी थी जो ये कोर्स ऑफर करती थी, लेकिन ललितेश की ग्रेड अच्छी नहीं जिससे कि उन्हें एमएस की डिग्री के लिए स्कॉलरशिप मिल सके; हालांकि इसके बजाय, वह आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी से एयरोस्पेस में एमएस करने के लिए चले गए। बाद में, 1991 में, 'पूरे सिस्टम को डिजाइन करने नाकि उसके कुछ हिस्सों को डिजाइन' करने के अपने सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी में एमएस डिजाइन की स्टडी की, इसके बाद वे फिर रोबोटिक्स में पीएचडी करने के लिए कार्नेगी मेलन चले गए।





कार्नेगी मेलन में, ललितेश ने राज रेड्डी जैसे महान टीचर से सीखा, जिनकी पीएचडी थीसिस स्पीच रिकग्निशन पर थी, और प्रदीप खोसला, जिन्होंने ऑटोनमस सिस्टम्स पर काम किया था, जो बहुत सारे आधुनिक इलेक्ट्रिक व्हीकल्स और हाई स्पीड रोबोटों के लिए जिम्मेदार है।


उन्होंने विलियम व्हिटकेकर के साथ भी काम किया, जिन्होंने 1970 के दशक में परमाणु आपदा क्षेत्र में जाने वाला पहला रोबोट बनाया था। 1997 में लूनर रोवर का निर्माण करने वाले ललितेश कहते हैं,

"मैंने विचारों को शोध में बदलना और कार्यान्वयन में अनुसंधान को मोड़ना सीखा।"
वह Lunar Rover जिसे बनाने के लिए ललितेश ने विलियम 'रेड' व्हिटकेकर के साथ काम किया

वह Lunar Rover जिसे बनाने के लिए ललितेश ने विलियम 'रेड' व्हिटकेकर के साथ काम किया


स्टार्टअप शुरू करने की जरूरत

कार्नेगी मेलन में रोबोटिक्स पर काम करते हुए, ललितेश ने स्टार्टअप शुरू करने का फैसला किया। जहां ललितेश हमेशा से ही रिसर्च और अकैडमिक्स में अपना करियर बनाना चाहते थे, लेकिन वे कुछ ऐसी चीजों के निर्माण के भी शौकीन थे, जो समस्याओं को हल करतीं हों। एक फैकल्टी होने के नाते उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं थी और इसलिए उन्होंने उद्यमशीलता का रास्ता अपनाने और स्टार्टअप शुरू करने का फैसला किया।


1997 में स्नातक होने के बाद, ललितेश ने अपने सहपाठी जॉन मरे के साथ 1998 में सैन फ्रांसिस्को में एक स्पेस रोबोटिक्स स्टार्टअप स्फियरो (Sphereo) शुरू किया। वे बताते हैं,

“मुझे टेक्नोलॉजी और प्रोडक्ट के बीच अंतर का कोई पता नहीं था, और हम एक टेक्नोलॉजी का निर्माण कर रहे थे और प्रोडक्ट का नहीं।"


ललितेश कहते हैं कि हमने एक्टिव ट्रैक और ई 3 नामक एक प्लेटफॉर्म बनाया है। जहां E3 सेंसर सिस्टम को बड़े पैमाने पर डिजाइन करने और रोबोट सिस्टम को अधिक आसानी से बनाने के लिए था, तो वहीं एक्टिव ट्रैक लोगों की गतिविधियों को स्वचालित रूप से ट्रैक करने के लिए एक मशीन लर्निंग सिस्टम था।


शुरू करने की चुनौतियां

लेकिन स्फीयरो ने जल्द ही एक कठिन दौर में प्रवेश किया जब डॉट-कॉम क्रैश के दौरान कॉन्ट्रैक्ट खत्म होने लगे। ललितेश कहते हैं, कंपनी में कोई फाइनेंस नहीं था, और कर्मचारियों को महीनों तक बिना वेतन के रहना पड़ता था। वह अपने और अपने परिवार के लिए कम चिंतित थे, लेकिन अधिक चिंता उन्हें उन नौ महीने तक अपने सहकर्मियों को वेतन नहीं दे पाने की थी। वे कहते हैं,

“एक स्टार्टअप का निर्माण आपको कई स्तरों पर परखता है - यह आपके सूक्ष्म और आपके चरित्र का परीक्षण करता है। और इसी दौरान आपका सच्चा आत्म उभरता है।”


सौभाग्य से, उनकी टीम गूगल में इंजीनियरिंग के वीपी वेन रोसेन जानती थी और उनके माध्यम से स्फियरो टीम ने लैरी और सर्गेई के साथ संभावित एग्जिट के लिए मुलाकात की। प्रत्येक टीम के सदस्य के पास $30,000 के करीब लोन था, और वे टीम गूगल के कॉल बैक का इंतजार करने के लिए परेशान थी। वे कहते हैं,

“जब मेरी बेटी का जन्म हुआ तब हमारी किस्मत बदली। हमारा घर गिरवी रख था और हमारे पास कोई विकल्प नहीं था। लेकिन एक हफ्ते के भीतर, मुझे गूगल से एक ईमेल मिला कि वे इसकी (स्फियरो) खरीदारी में रुचि रखते हैं, और तब सब कुछ बदल गया।”

Google ने 2002 में फायर सेल में स्टार्टअप का अधिग्रहण किया।





Google India की स्थापना

गूगल में अपने समय के दौरान, ललितेश को अपने जुनून को जीरो से और जनता के लिए बनाने और बड़े पैमाने पर प्रभाव पैदा करने का मौका मिला। यह 2003 के आसपास था जब कंपनी दुनिया की सभी सूचनाओं को व्यवस्थित करने और इसे सार्वभौमिक रूप से सुलभ और उपयोगी बनाने के लिए एक मिशन पर निकल पड़ी थी।


वे बताते हैं,

"लैरी और सर्गेई जानते थे कि यह कैलिफोर्निया में बैठकर नहीं किया जा सकता है। यदि आप यूजर्स के लिए समस्याओं को हल करना चाहते हैं, तो आपको वहां होना चाहिए वे (यूजर) हैं। इसके अलावा उस इनोवेशन का एक हिस्सा एक उभरते बाजार में होना था।”


यह तब था जब कोर टीम के साथ ललितेश ने गूगल इंडिया के लिए खाका लिखना शुरू किया।


वे बताते हैं,

“अब, यदि आप इंजीनियरों को एक कार्यालय स्थापित करने का काम देते हैं, तो वे एक मैट्रिक्स करेंगे, और हमने ऐसा किया। हम अंडर ग्राउंड मीटिंग्स कर रहे थे क्योंकि हम लैरी के पास एक मजबूत प्रस्ताव के साथ जाना चाहते थे। लेकिन इनमें से एक मीटिंग में वेन हमारे पास और बोले कि प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी गई।''


टीम 2003 में भारत आई, और Google इंडिया ने अप्रैल 2004 में संचालन शुरू किया। जहां उपभोक्ता संचालन हैदराबाद में स्थापित किया गया था, तो वहीं एक इंजीनियरिंग इकाई बेंगलुरु में शुरू की गई थी। टीम ने 2005 और बाद में, मैप मेकर प्रोजेक्ट में Google इंडिया मैप्स का निर्माण भी शुरू किया।


ललितेश, स्टैनफोर्ड की प्रतिष्ठित रोडिन प्रतिमा पर

ललितेश, स्टैनफोर्ड की प्रतिष्ठित रोडिन प्रतिमा पर


ललितेश कहते हैं, गूगल इंडिया का आईडिया एक ऐसा प्रोडक्ट तैयार करने का था जो भारत में बने लेकिन दुनिया के लिए उपयोगी हो। वे कहते हैं,

“कोडिंग 2005 में शुरू हुई, और 2006 में, हमारे पास इसका पहला वर्जन काम कर रहा था। टीम दिन में ऐडवर्ड्स पर काम करती थी और रात में उन्होंने भारत के पहले 30 शहरों का नक्शा बनाने में मदद की।"


एक उत्पाद का निर्माण करते समय चुनौतियों के बारे में बोलते हुए, ललितेश कहते हैं, जब वह पहली बार भारत आए थे, तो उन्हें पड़ोस और मार्गों के बारे में कोई पता नहीं था, और उन्होंने सड़कों को मैप करने के लिए एक जीपीएस ट्रक निकाला, जिसकी लागत लगभग $10- $15 प्रति किलोमीटर थी।


वे कहते हैं,

“भारत में तीन मिलियन किलोमीटर मार्ग थे और इसके $45 मिलियन खर्च करने की संभावना नहीं थी। यहां तक कि अगर हम याहू जैसे तकनीकी दिग्गजों से संपर्क करते, तो वे भी इस आइडिया के लिए निवेश करने पर सहमत नहीं होते। चूंकि हर पांच साल में सड़कें बदलती रहती हैं, इसलिए हर पांच साल में 45 मिलियन डॉलर खर्च करना कुछ ऐसा था जिसे भारत बर्दाश्त नहीं कर सकता है।"


ललितेश ने रूट्स और मैप्स के स्केच बनाने के लिए कम्प्यूटेशनल जियोमैट्रिक टूल्स का निर्माण किया और गूगल मैप मेकर का विकास किया। अपने दोस्त संजय जैन के साथ प्रोटोटाइप पर काम करने के दो साल बाद, उन्होंने हैदराबाद कार्यालय में इसका परीक्षण किया।


ललितेश कत्रगड्डा, कार्नेगी मेलन में एक सहयोगी के साथ काम करते हुए

ललितेश कत्रगड्डा, कार्नेगी मेलन में एक सहयोगी के साथ काम करते हुए


फिर से स्टार्टअप शुरू करना

फिर भी, कई इस पैमाने की एक परियोजना को सफलतापूर्वक निष्पादित करने के लिए बेंगलुरु में इंजीनियरों की क्षमता के बारे में उलझन में थे। इस परियोजना को कैलिफोर्निया ले जाया गया। तब भी, भारत की टीम ने हार नहीं मानी और निर्माण जारी रखा। ललितेश का कहना है कि गूगल मैप मेकर एडिटिंग टूल को आखिरकार अमेरिका सहित 200 देशों में 2008 में लॉन्च किया गया था।


वे कहते हैं,

"यह पूर्वी गोलार्ध में लॉन्च होने वाला पहला सबसे बड़ा इंटरनेट उत्पाद बन गया और फिर पश्चिमी गोलार्ध में चला गया।"


गूगल के साथ ललितेश का लास्ट प्रोजेक्ट एंड्रॉइड किटकैट को लेकर सुंदर पिचाई के साथ था। सर्च इंजन की दिग्गज कंपनी के साथ 12 साल तक काम करने के बाद, उन्होंने 2014 में Google को छोड़ दिया और 2015 में फिर से शुरू किया। निश्चित रूप से, Google में उन सभी वर्षों ने ललितेश की उद्यमशीलता की भावना को कम नहीं होने दिया। न ही इसने तकनीक के माध्यम से बड़े पैमाने पर प्रभाव पैदा करने के उनके जुनून को कम किया।


वह अपने नवीनतम उद्यम इंडीहुड का निर्माण कर रहे हैं - जो एक हाइपरलोकल, क्राउडसोर्सिंग टेक प्लेटफॉर्म है जो समुदायों को सामाजिक-आर्थिक चुनौतियों को हल करने के लिए सशक्त बनाता है। ललितेश कहते हैं कि भले ही अभी भी इंडीहुड अपने शुरुआती दिनों हो लेकिन आजीविका की समस्याओं को हल करने के लिए समुदायों को सशक्त बनाने का प्रयास कर रही है। ये ललितेश को उनके उस सपने को पूरा करने का अहसास दिलाती है जो किसी प्रभाव के लिए टेक का निर्माण करना है। 


How has the coronavirus outbreak disrupted your life? And how are you dealing with it? Write to us or send us a video with subject line 'Coronavirus Disruption' to editorial@yourstory.com

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Latest

Updates from around the world

Our Partner Events

Hustle across India